Pradhan Mantri Ayushman Bharat Yojna | प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना क्या है ?

आयुष्मान भारत योजना [ Pradhan Mantri Ayushman Bharat Yojna (PM-ABY)] या प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PM-JAY), भारत सरकार की एक स्वास्थ्य योजना है, जिसे 1 अप्रैल, 2018 को पूरे भारत मे लागू किया गया। इस योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (बीपीएल धारक) को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है। इसके अन्तर्गत आने वाले प्रत्येक परिवार को 5 लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जायेगा।

Pradhan Mantri Ayushman Bharat Yojna (PM ABY) में समाज के कमजोर वर्ग को लोगों को हेल्थ इंश्योरेंस की सुविधा मिलती है. एबीवाई को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (पीएम जय) भी कहा जाता है. इसके तहत देश के 10 करोड़ परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा मिल रहा है.

यह योजना 23 सितंबर, 2018 को भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के द्वारा रांची, झारखंड में शुरू की गई। साल 2008 में यूपीए सरकार द्वारा लांच राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (RSBY) को भी आयुष्मान भारत योजना (PM-JAY) में मिला दिया गया है.

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना के तहत निम्नलिखित 2 योजनाओं को मिलाया गया है |

  1. राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (RSBY)
  2. प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PM JAY)

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना(PM ABY) का उद्देश्य

यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज (यू-एच-सी) के उद्देश्य को प्राप्त करने के लिए, भारत सरकार की एक प्रमुख योजना “आयुष्मान भारत” का सुझाव राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति 2017 में दिया गया। जिसका मूल उद्देश्य है की “कोई भी पीछे ना छूटे।”

आयुष्मान भारत (पीएम-जय)दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य आश्वासन योजना है, जिसका उद्देश्य प्रति परिवार प्रति वर्ष 5 लाख रुपये तक का मुफ़्त इलाज (कैशरहित स्वास्थ्य बीमा) स्वास्थ्य सेवाओं के लिए 10.74 करोड़ से भी अधिक गरीब और वंचित परिवारों अर्थात लगभग 50 करोड़ लाभार्थियों कैशरहित स्वास्थ्य बीमा को मुहैया कराना जो भारतीय आबादी का 40% हिस्सा हैं।

यह संख्या और शामिल किए गए परिवार ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों की सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना 2011 (SECC 2011) के मापदण्डों पर आधारित हैं। (पीएम-जय) को पहले राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (RSBY) के नाम से जाना जाता था। 

इस योजना का उद्देश्य आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (बीपीएल धारक) को स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराना है। इसके अन्तर्गत आने वाले प्रत्येक परिवार को 5 लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जायेगा।

आयुष्मान भारत बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं की ओर एक बड़ा क़दम है।

आयुष्मान कार्ड का क्या फायदा है?

इस योजना का फायदा यह है कि आर्थिक रूप से कमजोर लोगों (बीपीएल धारक) का स्वास्थ्य बीमा भारत सरकार कि ओर से मुफ़्त होता है। इसके अन्तर्गत आने वाले प्रत्येक परिवार को सालाना 5 लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया जाता है।

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना

पीएम-जय योजना के लिए पात्रता(PM-JAY)

स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम में किसी भी देश की सबसे गरीब और सबसे कमजोर आबादी को शामिल करना अक्सर सबसे चुनौतीपूर्ण होता है क्योंकि वे किसी भी प्रीमियम का भुगतान नहीं कर सकते हैं और उन् लोगों तक पहुंचना सबसे कठिन हैं। कई बार वे साक्षर भी नहीं होते हैं और इसलिए, जागरूकता पैदा करने के लिए बहुत अलग दृष्टिकोण की आवश्यकता होती है।

इसलिए पीएम-जय का निर्माण आबादी के निचले 40 प्रतिशत गरीब और कमजोर परिवारों के लिए किया गया है। सख्या में 10.74 करोड़ से अधिक परिवार (लगभग 50 करोड़ जनता) पीएम-जय के लाभार्थी हैं।

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों को 2 मुख्य श्रेणियों में बाँटा गया है |

  1. ग्रामीण लाभार्थी
  2. शहरी लाभार्थी

ग्रामीण लाभार्थी

ग्रामीण लाभार्थियों के लिए पीएम-जय ने ऐसे सभी परिवारों को कवर किया जो निम्न छह (D1 से D5 और D7) में से कम से कम एक में अथवा निराश्रित / भिक्षा पर रहनेवाले, आदिवासी जनजातीय समूह, कानूनी रूप मुक्त बंधुआ मजदूर में आते हैं वे परिवार प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना में शामिल किये गए है |

  • D1- ऐसे परिवार जिनके केवल एक कमरा जिसमें कच्ची दीवारें और कच्चा छत हो|
  • D2- ऐसे परिवार जिनमे 16 से 59 वर्ष के बीच कोई वयस्क सदस्य नहीं हो|
  • D3- ऐसे परिवार 16 से 59 वर्ष की आयु के बीच कोई वयस्क पुरुष सदस्य नहीं है
  • D4- विकलांग सदस्य और कोई सक्षम वयस्क सदस्य नहीं
  • D5- एससी/एसटी परिवार
  • D7- भूमिहीन परिवार जो अपनी आय का एक बड़ा हिस्सा मजदूरी से प्राप्त करते हैं

ग्रामीण लाभार्थी

शहरी क्षेत्रों के लिए, श्रमिकों की निम्नलिखित 11 व्यावसायिक श्रेणियां योजना के लिए पात्र हैं:

  • कूड़ा उठाने वाला
  • भिखारी
  • घरेलू काम करने वाला
  • स्ट्रीट वेंडर / चर्मकार / फेरीवाला / सड़कों पर काम करने वाले अन्य सेवा प्रदाता
  • निर्माण कार्यकर्ता / प्लंबर / थवई / मजदूर / पेंटर / वेल्डर / सुरक्षा रक्षक / कुली और अन्य सिर पर बोझ उठाने वाला मजदूर
  • स्वीपर / सफाई कर्मचारी / माली
  • घरेलु कामगार / कारीगर / दस्तकार / दर्जी
  • परिवहन कर्मचारी / वाहन चालक / कंडक्टर / वाहन चालक व् कंडक्टर सहायक / गाड़ी खींचने वाले / रिक्शा खींचने वाले
  • दुकान कर्मचारी / सहायक / छोटी संस्थओं में चपरासी / मदद गार / वितरण सहायक / परिचर / वेटर
  • इलेक्ट्रीशियन / मैकेनिक / असेंबलर / मरम्मत कार्यकर्ता
  • धोबी / चौकीदार

पीएम-जय योजना में शामिल सेवाएँ

(पीएम-जय) की मुख्य विशेषताएं

  • (पीएम-जय)पूरी तरह से सरकार द्वारा वित्त-पोषित दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा/आश्वासन योजना है।
  • यह योजना भारत में सार्वजनिक व निजी सूचीबद्ध अस्पतालों में माध्यमिक और तृतीयक स्वास्थ्य उपचार के लिए प्रति परिवार प्रति वर्ष 5 लाख रुपये तक की धन राशि लाभार्थियों को मुहया कराती है।
  • 10.74 करोड़ से भी अधिक गरीब व वंचित परिवार (या लगभग 50 करोड़ लाभार्थी) इस योजना के तहत लाभ प्राप्त कर सकतें हैं।
  • (पीएम-जय)सेवा संस्थान अर्थात “अस्पतालों” में लाभार्थी को स्वास्थ्य सेवाएँ निशुल्क प्रदान करती है।
  • (पीएम-जय)चिकित्सा उपचार से उत्पन अत्यधिक ख़र्चे को कम करने में मदद करती है, जो प्रत्येक वर्ष लगभग 6 करोड़ भारतीयों को गरीबी की रेखा से नीचे पहुचा देता है।
  • इस योजना के तहत अस्पताल में भर्ती होने से 3 दिन पहले और 15 दिन बाद तक का नैदानिक उपचार, स्वास्थ्य इलाज व दवाइयाँ मुफ्त उपलब्ध होतीं हैं।
  • इस योजना के तहत परिवार के आकार, आयु या लिंग पर कोई सीमा नहीं है।
  • इस योजना के तहत पहले से मौजूद विभिन्न चिकित्सीय परिस्थितियों और गम्भीर बीमारियों को पहले दिन से ही शामिल किया जाता है।
  • (पीएम-जय)एक पोर्टेबल योजना हैं यानी की लाभार्थी इसका लाभ पूरे देश में किसी भी सार्वजनिक या निजी सूचीबद्ध अस्पताल में उठा सकतें हैं।
  • इस योजना में लगभग 1,393 प्रक्रियाएं और पैकिज शामिल हैं जैसे की दवाइयाँ, आपूर्ति, नैदानिक सेवाएँ, चिकित्सकों की फीस, कमरे का शुल्क, ओ-टी और आई-सी-यू शुल्क इत्यादि जो मुफ़्त उपलब्ध हैं।
  • स्वास्थ्य सेवाओं के लिए निजी अस्पतालों की प्रतिपूर्ति सार्वजनिक अस्पतालों के बराबर की जाती है।

पीएम-जय के तहत लाभ

  • चिकित्सिक परीक्षा, उपचार और परामर्श
  • अस्पताल में भर्ती से पूर्व ख़र्चा
  • दवाइयाँ और चिकित्सा उपभोग्य
  • गैर-गहन और गहन स्वास्थ्य सेवाएँ
  • नैदानिक और प्रयोगशाला जांच
  • चिकित्सा आरोपण सेवाएं (जहां आवश्यक हो)
  • अस्पताल में रहने का ख़र्चा
  • अस्पताल में खाने का ख़र्चा
  • उपचार के दौरान उत्पन्न होने वाली जटिलताएँ
  • अस्पताल में भर्ती होने के बाद 15 दिनों तक की देखभाल

इस योजना में 5,00,000 रुपये का लाभ पूरे परिवार को मिलता है, मतलब इसका उपयोग परिवार के एक या सभी सदस्यों द्वारा किया जा सकता है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा योजना(RSBY) योजना के तहत पाँच सदस्यों की पारिवारिक सीमा थी। उन योजनाओं से सीख लेते हुए, (पीएम-जय)की संरचना इस प्रकार की गई है कि परिवार के आकार या सदस्यों की उम्र पर कोई सीमा नहीं रखी गई है।

इसके अलावा, पहले से मौजूद विभिन बीमारियों को इस योजना में पहले दिन से ही शामिल किया जाता है। इसका मतलब यह है कि (पीएम-जय)में नामांकित होने से पहले किसी भी क़िस्म की बीमारी या स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित व्यक्ति उन सभी चिकित्सीय परिस्थितियों के लिए, और साथ ही पीएम-जय योजना के तहत सारे उपचार, प्राप्त करने के लिए पहले दिन से ही लाभार्थी है।

Pradhan Mantri Ayushman Bharat Yojna की उपलब्धियाँ बताने वाली तस्वीर

<—इन्हें भी पढ़े —>

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!